Monday, April 15, 2024
ई पेपर
Monday, April 15, 2024
Home » होली पर विज से मेल-जोल बढ़ाने पहुंचे खट्टर

होली पर विज से मेल-जोल बढ़ाने पहुंचे खट्टर

चंडीगढ़/चन्द्र शेखर धरणी। पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा अनिल विज को होली के पावन अवसर पर लगाए जाने वाला तिलक कई राजनीतिक संकेतों को जन्म दे गया। दरअसल होली महोत्सव के मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल चंडीगढ़ से करनाल जाते वक्त रास्ते में अंबाला अनिल विज के निवास पर पहुंचे थे, जहां विज ने उनका सम्मान करते हुए उन्हें दोशाला पहनाया।

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं-कार्यकत्र्ताओं और समर्थको के लिए यह चित्र काफी मनमोहक और राहत भरा होगा, क्योंकि चर्चाएं थी कि कुछ दिन से अनिल विज नाराज चल रहे हैं। अनिल विज जैसे कद्दावर नेता की नाराजगी किसी भी तरह से भाजपा के लिए कम नुकसानदायक नहीं हो सकती थी। शनिवार को मुख्यमंत्री नायब सिंह तथा रविवार को होली के मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल का अनिल विज के पास पहुंचना भाजपा के लिए एक अच्छी खबर है। इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अनिल विज को सिंदूरी रंग के गुलाल से तिलक लगाया और फिर अनिल विज ने भी पूर्व मुख्यमंत्री को तिलक किया। यह एक बेहद खूबसूरत मौका था।

सूत्रों के अनुसार जल्द ही विज को बड़ी जिम्मेदारी देकर भाजपा विज के समर्थकों को बड़ी खुशी देने की तैयारी कर चुकी है। *इस मुलाकात को लेकर क्या कहा मनोहर लाल ने?- इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत भी की। उन्होंने किसी भी प्रकार की आपसी नाराजगी की बात को नकारते हुए कहा कि पिछले साढे 9 साल विधानसभा में मैं बतौर मुख्यमंत्री और विज बतौर मंत्री एक साथ रहे हैं। रोजाना मिलना-जुलना होता था। आज हम नहीं पोजीशन में अपना-अपना काम कर रहे हैं। आज होली के पावन मौके पर चंडीगढ़ -पंचकूला में बहुत से साथियों से मिला हूं और इस मौके पर यहां भी आया हूं।

आपसी नाराजगी वाली किसी भी बात से उन्होंने इनकार किया। उन्होंने कहा कि यह मिलने-जुलने का त्यौहार है ताकि आपसी भाईचारा बरकरार रहे। भाईचारे के नाते सभी साथी आपस में मिलते हैं। उन्होंने कहा कि मैं चंडीगढ़ से करनाल जा रहा था तो संयोग से आज त्यौहार का दिन है, पुरानी यादें भी सांझा की है।

*मुख्यमंत्री काल के दौरान भी मनोहर लाल हाल जानने जाते थे – ऐसा भी कतई नहीं है कि पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल अनिल विज से मिलने पहली बार उनके निवास पहुंचे हों, मुख्यमंत्री रहने के दौरान भी जब विज अस्वस्थ थे तब भी मनोहर लाल उनकी खैरख्वा जानने कई बार यहां पहुंचे थे, लेकिन कुछ दिन में बदले राजनीतिक हालातों के चलते इनका यह दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा सकता है। कुछ दिन पहले विज की नाराजगी की खबरें लगातार जनता के दिलों-दिमाग पर असर डाल रही थी, अब मुख्यमंत्री तथा पूर्व मुख्यमंत्री के दौरे से हालातो में काफी सुधार माना जा सकता है। बेशक यह सभी नेता नाराजगी की बात से इनकार कर रहे हो, लेकिन सूत्रों के अनुसार विज की अनदेखी से भाजपा को भारी नुकसान हो सकता था, पर आज राजनीतिक रूप से ऐसा समय बिल्कुल नहीं है कि विज की अनदेखी की जा सके। विज वरिष्ठ नेता तो हैं ही, लेकिन प्रदेशभर में समर्थकों की एक बड़ी फौज भी रखते हैं, जिसका प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से नुकसान भाजपा को हो सकता था। अब इन दो वरिष्ठ नेताओं के इन दौरों से हालात बदलने के पूरे आसार हैं। सूत्रों और हाल के हालातो की माने तो जल्द अनिल विज महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आएंगे।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd