Wednesday, February 28, 2024
ई पेपर
Wednesday, February 28, 2024
Home » गुजरात एटीएस द्वारा मुफ्ती की गिरफ्तारी का विरोध कर रही भीड़ पर मुंबई पुलिस ने किया लाठीचार्ज

गुजरात एटीएस द्वारा मुफ्ती की गिरफ्तारी का विरोध कर रही भीड़ पर मुंबई पुलिस ने किया लाठीचार्ज

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): ‘हेट स्‍पीच’ मामले में गुजरात पुलिस द्वारा गिरफ्तार एक मुस्लिम मुफ्ती की रिहाई का विरोध कर रही भारी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मुंबई पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज किया। इसमें दो लोग घायल हो गए। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी।

जूनागढ़ पुलिस (गुजरात) की एक टीम मुंबई आई और मुफ्ती सलमान अज़हरी को गिरफ्तार कर लिया, जिन्होंने 31 जनवरी को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिया था।

भाषण का वीडियो वायरल होने के बाद, जूनागढ़ पुलिस ने स्थानीय आयोजकों एम. यूसुफ मालेक, अजीम एच. ओडेदरा और मुफ्ती अज़हरी पर मामला दर्ज किया, जो कथित तौर पर आपत्तिजनक बयान के बाद बाद में मुंबई पहुंचे थे।

गुजरात पुलिस का आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) मुंबई पहुंचा और रविवार तड़के पूर्वी उपनगर में अज़हरी के घर पर छापा मारा। उसे गिरफ्तार करने से पहले कई घंटों तक हिरासत में रखा और फिर औपचारिकताएं पूरी करने के लिए उसे घाटकोपर पुलिस स्टेशन ले जाया गया।

गिरफ्तारी की खबर सुनकर रविवार को भी बड़ी संख्या में उनके समर्थक पुलिस स्टेशन के बाहर जमा हो गए और देर रात तक भीड़ बढ़ती रही, नारे लगाए और मुफ्ती की तत्काल रिहाई की मांग की, इससे कुछ समय के लिए यातायात बाधित हो गया।

सोमवार (5 फरवरी) तड़के पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हल्की लाठीचार्ज किया, इसमें कम से कम दो लोग घायल हो गए और पीड़ितों के वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आए।

बताया जा रहा है कि स्थिति नियंत्रण में है और पुलिस आसपास के इलाके में कड़ी निगरानी रख रही है।

अल अज़हर काहिरा विश्वविद्यालय (मिस्र) के पूर्व छात्र, मुफ्ती सलमान अज़हरी एक इस्लामी विद्वान, सुन्नी उपदेशक और यूट्यूबर हैं, जिन्होंने कई संस्थानों की स्थापना की है और दुनिया भर में व्याख्यान दिए हैं।

एक्स पर उनके आधिकारिक अकाउंट पर एक बयान में कहा गया है कि गुजरात एटीएस की टीमें आईं और उन्हें रविवार सुबह 11.56 बजे के आसपास हिरासत में लिया, और यह कार्रवाई गुजरात पुलिस द्वारा दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं द्वारा हेट स्‍पीच के “झूठे आरोप” के आधार पर एफआईआर दर्ज करने के बाद हुई।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd