Thursday, February 29, 2024
ई पेपर
Thursday, February 29, 2024
Home » बढ़ती महंगाई में राहतः अब 29 रुपये प्रति किलो मिलेगा चावल- सरकार आज लॉन्च करेगी योजना

बढ़ती महंगाई में राहतः अब 29 रुपये प्रति किलो मिलेगा चावल- सरकार आज लॉन्च करेगी योजना

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत में चावल की खुदरा कीमतों में पिछले एक साल में तेजी देखने को मिली है। ऐसे में भारत सरकार उपभोक्ता को राहत देने के लिए रियायती दर पर चावल की बिक्री करना शुरू कर रही है। आज सरकार द्वारा Bharat Rice लॉन्च किया जाएगा। इसमें उपभोक्ता को 29 रुपये प्रति किलोग्राम पर चावल दिया जाएगा। सब्सिडी वाला चावल 5 किलो और 10 किलो के पैक में उपलब्ध होगा। बता दें कि पिछले 1 साल में चावल की खुदरा कीमतों में 15 फीसदी से ज्यादा की तेजी देखने को मिल रही है।

एक आधिकारिक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि खाद्य मंत्री पीयूष गोयल राष्ट्रीय राजधानी के कर्त्तव्य पथ पर भारत चावल लॉन्च करने वाले हैं। भारतीय खाद्य निगम (FCI) दो सहकारी समितियों, नेशनल एग्रीकल्चरल कोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (NAFED) और नेशनल कोऑपरेटिव कंज्यूमर फेडरेशन ऑफ इंडिया (NCCF) के साथ-साथ केंद्रीय भंडार को खुदरा श्रंख्ला 5 लाख टन चावल का फेस-1 शुरू करेगा।

ये एजेंसियां ​​चावल को 5 किलो और 10 किलो में पैक करेंगी और “भारत” ब्रांड के तहत अपने आउटलेट के माध्यम से खुदरा बिक्री करेंगी। चावल को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए भी बेचा जाएगा। खुले बाजार बिक्री योजना (ओएमएसएस) के माध्यम से समान दर पर थोक उपयोगकर्ताओं को चावल की बिक्री के लिए फीकी प्रतिक्रिया मिलने के बाद सरकार ने एफसीआई चावल की खुदरा बिक्री का सहारा लिया है।

सरकार को उम्मीद है कि “भारत चावल” के लिए भी अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी, जैसा कि उसे “भारत आटा” के लिए मिल रहा है, जिसे समान एजेंसियों के माध्यम से 27.50 रुपये प्रति किलोग्राम और “भारत चना” 60 रुपये प्रति किलोग्राम पर बेचा जा रहा है। निर्यात पर प्रतिबंध और 2023-24 में बंपर उत्पादन के बावजूद खुदरा कीमतें अभी भी नियंत्रण में नहीं आई हैं।

सरकार ने जमाखोरी रोकने के लिए खुदरा विक्रेताओं, थोक विक्रेताओं, प्रोसेसरों और बड़ी खुदरा श्रृंखलाओं से अपने स्टॉक का खुलासा करने को कहा है। विशेषज्ञों ने कहा कि ऐसे समय में जब सरकार 80 करोड़ गरीब राशन कार्ड धारकों को मुफ्त एफसीआई चावल प्रदान करती है, उच्च मुद्रास्फीति एफसीआई चावल में नहीं हो सकती क्योंकि एफसीआई के पास भारी स्टॉक है और वह ओएमएसएस के माध्यम से अनाज बेचता है।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd