Monday, February 26, 2024
ई पेपर
Monday, February 26, 2024
Home » फिलिस्तीन-इजरायल संघर्षः मीडिया कवरेज के दौरान रॉकेट हमलों में मारे गए 36 पत्रकार

फिलिस्तीन-इजरायल संघर्षः मीडिया कवरेज के दौरान रॉकेट हमलों में मारे गए 36 पत्रकार

वाशिंगटन (उत्तम हिन्दू न्यूज):फिलिस्तीन-इजरायल संघर्ष के दौरान मीडिया कवरेज के समय रॉकेट हमलों में कम से कम 36 पत्रकार और मीडियाकर्मी मारे गए हैं। कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने एक बयान में यह जानकारी दी है। सीपीजे ने कहा, “प्रारंभिक जांच से पता चला कि 07 अक्टूबर को दोनों पक्षाें की ओर से युद्ध शुरू होने के बाद से शुक्रवार (03 नवंबर) तक अनुमानित 10,000 लोग मारे गए है, जिनमें कम से कम 36 पत्रकार और मीडिया कर्मी शामिल थे। गाजा और वेस्ट बैंक में 9,000 से अधिक फिलिस्तीनी की मौत हो गयी और इज़राइल में 1,400 से अधिक लोग मारे गए हैं।”

Palestine Israel conflict: सीपीजे ने बताया कि मारे गए 36 मीडियाकर्मियों में 31 फिलीस्तीनी पत्रकार शामिल हैं। उन्होंने बताया, “तीन नवंबर तक 36 पत्रकारों और मीडियाकर्मियों की मौत की पुष्टि की गई है। जिनमें से 31 फिलिस्तीनी, चार इजरायली और एक लेबनानी पत्रकार है और अन्य आठ पत्रकारों के घायल होने की सूचना मिली है। इसके अलावा तीन पत्रकार लापता बताए गए है और आठ पत्रकारों की गिरफ्तारी की भी रिपोर्ट समाने आ रही थी।

गौरतलब है कि 07 अक्टूबर को फिलिस्तीनी समूह हमास ने गाजा पट्टी से इजरायल के खिलाफ भारी पैमाने पर रॉकेट हमला किया और सीमा का उल्लंघन किया। हमास के लडाकों ने इजरायली समुदायों के लोगों की हत्या की और 250 से अधिक लोगों का अपहरण कर उनकों बंधक बनाया। इज़रायल ने हमले के बाद जवाबी हमले शुरू किए और 20 लाख से अधिक लोगों के घर गाजा पट्टी की पूर्ण नाकाबंदी का आदेश दिया, पानी, भोजन और ईंधन की आपूर्ति को पूरी तरह से बंद कर दिया।

इज़रायल ने 27 अक्टूबर को हमास के लड़ाकों का खात्मा करने और बंधकों को छुड़ाने के लिए गाजा पट्टी के अंदर बड़े पैमाने पर जमीनी जंग शुरू की। दोनों पक्षों की ओर से संघर्ष के बढ़ने से इज़रायल में करीब 1,400 और गाजा पट्टी में 9,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई है।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd