Wednesday, February 21, 2024
ई पेपर
Wednesday, February 21, 2024
Home » लोगों को ऋषि-मुनियों के लिखे ग्रंथों से शिक्षा लेनी चाहिए : विजय प्रताप सिंह

लोगों को ऋषि-मुनियों के लिखे ग्रंथों से शिक्षा लेनी चाहिए : विजय प्रताप सिंह

अमृतसर/दीपक मेहरा : जय कृष्णा मंदिर धाम की तरफ सलाना समरोह एवं 55वां संत सम्मेलन गोल्डन गेट के पास बड़ी धूमधाम व श्रद्धा के साथ मनाया गया। संत समाज से जुड़ी 2 हस्तिया देश-विदेशों से शामिल हुई। इस अवसर पर महंत रहेरकार बाबा महानुभाव जी, महंत यशराज शास्त्री एव आए संत समाज, भक्तों ने श्री सागर मुनि का सत्कार करते हुए बाल गंगाधर तिलक की पगड़ी डालकर उन्हें मंदिर जय कृष्णा का सर्वसम्मति से संचालक नियुक्त किया। इस मौके पर डा. कुंवर विजय प्रताप सिंह विधायक व पूर्व आईजी पुलिस, प्रमोद भाटिया चेयरमैन ने आए संतों से आशीर्वाद लिया इनके साथ राजेंद्र शर्मा राजू, अमन शर्मा, अजय सरीन सब युथ नेता आम आदमी पार्टी, संजय ढीगरा एडवोकेट सुनित पाल, डा. विशाल भारद्वाज, पंडित कमंल शर्मा मौजूद थे।
कुंवर विजय प्रताप सिंह ने आए संत समाज को नमस्कार किया तथा कहा कि आज हमारे जो ग्रंथ हमारे ऋषि-मुनियों ने लिखे हैं उन्हें हमें अपने परिवार ब’चों के साथ जरूर पढऩा चाहिए क्योंकि उनसे हमें बहुत शिक्षा मिलती है तथा हमारे जीवन को सही मार्ग का ज्ञान होता है। आज का मनुष्य अंधकार का जीवन जी रहा है मगर हमारे जीवन को रोशन, ग्रंथ कर सकते हैं। हमें जगह-जगह भटकने की आवश्यकता नहीं पढ़ती है। प्रमोद भाटिया ने कहा के संत सम्मेलन में आकर बड़ा अ’छा लगा है। आज खासकर युवा वर्ग ग्रंथों से शिक्षा लेकर मां-बाप बड़े बुजुर्गों की सेवा करें तथा उनका आशीर्वाद प्राप्त करें क्योंकि भगवान का दिया हुआ अशीर्वाद के बराबर ही मां-बाप का आशीर्वाद होता है। इस मौके पर सागर मुनि शास्त्री ने आए हुए अतिथियों को स्वरूपा स्मृति चिन्ह एवं ग्रंथ देकर सम्मानित किया।
इस मौके पर मंदिर के मुख्य कार्यकर्ता अंजना लूथरा, अरुण चौहान, गौतम सरीन, दीपिका, शुभ, चांदनी, रंजू चोपड़ा, स्मृति, देवदास के साथ भारी संख्या में भक्तों ने अपनी हाजिरी भरी तथा लंगर प्रसाद लिया। 

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd