Thursday, February 29, 2024
ई पेपर
Thursday, February 29, 2024
Home » 20 हजार किलोमीटर से अधिक सडक़ों को सुधारकर रोड नैटकवर्क किया मजबूत : डिप्टी सीएम

20 हजार किलोमीटर से अधिक सडक़ों को सुधारकर रोड नैटकवर्क किया मजबूत : डिप्टी सीएम

चंडीगढ़,धरणी। हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि प्रदेश सरकार पिछले सवा चार साल से निरंतर सडक़ तंत्र को मजबूत करने में लगी हुई है। इस दौरान 15,005 किलोमीटर लम्बाई की सडक़ों की मरम्मत की गई और मजबूतीकरण किया गया तथा 1,550 किलोमीटर नया सडक़ नेटवर्क तैयार किया गया। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सडक़ योजना के अंतर्गत लगभग 2,500 किलोमीटर ग्रामीण सडक़ का आधारभूत ढांचा बेहतर किया गया। इसी प्रकार 1,360 किलोमीटर लम्बाई की सडक़ का नाबार्ड के फण्ड से सुधारीकरण किया गया। कुल मिलाकर 20,399 किलोमीटर स्टेट फण्ड और केंद्र सरकार द्वारा दी गई आर्थिक सहायता से एमडीआर, ओडीआर, लिंक सडक़ें और स्टेट हाइवेज का बेहतरीन तरीके से सुधार किया है।
उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने ने यह भी जानकारी दी कि करनाल, अम्बाला, पिंजौर और झज्जर समेत 12 नैशनल हाइवेज के बाईपास बनाए गए हैं। साथ ही जींद और उचाना में भी केंद्र से बाईपास की स्वीकृति मिल गई है और जल्द ही काम शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा उठाए गए इन सकारात्मक कदमों से शहरों में यातायात का दबाव कम होगा और जाम की समस्या से मुक्ति मिलेगी।
डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने बताया कि एक नैशनल हाइवेज पिंजौर से होकर हिमाचल प्रदेश के बद्दी में जाता है। इसमें वाहनों की संख्या ज्यादा होने के कारण पिंजौर और कालका में जाम की समस्या बनी रहती थी, लोगों की समस्या का समाधान करते हुए पिंजौर में भी बाईपास का निर्माण किया गया है, इसका 93 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से इस बाईपास के उदघाटन करवाने के लिए समय देने के लिए अनुरोध किया है।

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने बताया कि यमुनानगर शहर से पांवटा साहिब की तरफ जाने वाली सडक़ पर भी वाहनों की अधिकता के कारण जाम की समस्या बनी रहती है। इसके लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि इस नैशनल हाईवे पर शहर में ट्रैफिक के दबाव को कम करने के लिए जगाधरी और यमुनानगर शहर के बाहर से एक बाईपास बनाया जाए, इसके लिए नैशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से स्वीकृति मिल चुकी है।
उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने बताया कि राज्य सरकार ने दो साल पहले हरियाणा को एमडीआर और ओडीआर सडक़ों पर बने रेलवे की फाटक से मुक्ति दिलाने के लिए फाटक मुक्त हरियाणा करने की दिशा में कदम उठाया था। इसके लिए राज्य में आरओबी और आरयूबी निर्माण का खाका तैयार किया गया। अब तक 35 आरओबी बनकर तैयार हो चुके हैं और 52 आरओबी अगले छह माह में बन जाएंगे, साथ ही 43 आरओबी के निर्माण के लिए ड्राइंग एवं अन्य औपचारिकता पूरी हो गई है, जल्द ही इन पर भी काम शुरू हो जाएगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्द ही राज्य की सभी एमडीआर और ओडीआर सडक़ें फाटक मुक्त हो जाएंगी।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd