Saturday, April 13, 2024
ई पेपर
Saturday, April 13, 2024
Home » साधना से जीवन में आती है खुशहाली : रूपेश्वरी भारती

साधना से जीवन में आती है खुशहाली : रूपेश्वरी भारती

जालंधर/उत्तम हिन्दू न्यूज : साधकों के आध्यात्मिक जीवन को प्रकाशित करने हेतु दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान नूरमहल आश्रम में अति विशिष्ट कार्यक्रम ध्यान साधना शिविर आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ प्रार्थना द्वारा किया गया, जिसमें एक भक्त ने अपने जीवन का हर एक पल ध्यान में लगाने की प्रार्थना की। संत समाज द्वारा गुरुदेव के श्री चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए तिलक एवं मौली द्वारा गुरुदेव का पावन वंदन किया गया।
साध्वी रूपेश्वरी भारती ने बताया कि गुरु की कलाई पर साधक द्वारा बांधी गई मौली गुरु और शिष्य के अटूट प्रेम को दर्शाती है और गुरु के चरणों में अर्पित सुमन भक्त के मन को सुंदर कर देते हैं। उन्होंने ने एक शिष्य के जीवन में साधना का उद्देश्य बताते हुए कहा कि जब इस घोर कलयुग में एक व्यक्ति का मन संसार की मलीनता में फंस कर रसहीन हो जाता है तो भक्त अपनी हृदय भूमि को पुन: गुरु प्रेम में सींचने के लिए एकनिष्ठ होकर अपनी साधना को गुरुदेव पर लक्षित करता है। जैसे एक पौधे की जड़ को जितना अच्छे से सींचा जाता है, उतना ही पौधा फलवित होता है ठीक उसी प्रकार जब एक साधक भी अपने जीवन के आधार साधना को गुरु भक्ति में लगाता है तो उसका जीवन स्वत: ही पौधे की तरह ऊंची उड़ान भरता हुआ फलवित होता जाता है। अंत में पंडाल में उपस्थित समस्त साधकों ने पूर्ण सद्गुरु द्वारा प्रदत्त ब्रह्मज्ञान की अग्नि को अपने जीवन में प्रकाशित करने के लिए अपने जीवन की प्राण वायु साधना को बलवित करने का संकल्प लिया।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd