Wednesday, February 21, 2024
ई पेपर
Wednesday, February 21, 2024
Home » आखिर राजस्थान का रिवाज क्यों नहीं बदल पाए अशोक गहलोत, पढ़ें INSIDE STORY

आखिर राजस्थान का रिवाज क्यों नहीं बदल पाए अशोक गहलोत, पढ़ें INSIDE STORY

जयपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज)-अभी तक के जो चुनावी परिणाम और रुझान जो सामने आए हैं वो राजस्थान में गहलोत सरकार की विदाईगी का स्पष्ट संकेत दे रहे हैं और लगभग विदाई हो भी चुकी है बस औपचारिक रूप से फाइनल रिजल्ट का इंतजार है। राजस्थान में कांग्रेस की हार के कारणों को खंगाला जाए तो कई कारण सामने आते हैं। जैसे कि पार्टी के अंदर गुटबाजी के साथ-साथ कई बागी नेताओं ने पार्टी का खेल बिगाड़ा। जैसे कि सचिन पायलट और अशोक गहलोत की लड़ाई तो पूरे देश में चर्चा का मुद्दा रही। दोनों नेताओं की लड़ाई ने प्रदेश में कांग्रेस को नुकसान पहुंचया। दोनों को एक साथ मंच पर लाने की कोशिशें बहुत बार नाकाम भी हुई। 

 

इसके अलावा गहलोत के साथियों ने उनपर अहंकारी होने का आरोप लगाया। खुद उनकी पार्टी के कई विधायकों ने अपनी बात न सुनने का आरोप लगाया, वहीं सचिन पायलट से उनकी लड़ाई तो पिछले साल सरकार बनने के बाद से ही चल रही है। कई बार मीडिया के सामने आकर गहलोत ने सचिन पायलट को निकम्मा और गद्दार तक कह दिया। अशोक गहलोत की सरकार ने चुनावी साल में राहत महंगाई कैंप लगाकर अपने पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की। गहलोत ने चुनाव में 7 गारंटियां लॉन्च की। चुनाव से पहले चिरंजीवी योजना की लिमिट बढ़ाकर 50 लाख करने का वादा किया। लेकिन इनसब पर पेपर लीक, लाल डायरी और भ्रष्टाचार के आरोप भारी पड़े। राजस्थान के युवाओं ने गहलोत की गारंटियों पर भरोसा नहीं करते हुए पीएम मोदी पर भरोसा किया। उल्लेखनीय है कि राजस्थान में हर पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज है जोकि इस बार गहलोत बदल नहीं सके।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd